Your cart is empty

समणसुत्तं (हिन्दी) - जिनेन्द्र वर्णी

₹100.00

जैन-धर्म के बारे में प्रमाणिक जानकारी देनेवाला, जैन-धर्म के सभी सम्प्रदाय द्वारा सर्वमान्य एकमात्र ग्रंथ है। विनोबाजी के प्रेरणा से भगवान् महावीर के 2500वें निर्वाण वर्ष में रचित एक महान उपलब्धि।

Pages: 276
Size: Demy

Add to Cart:


This product was added to our catalog on Wednesday 22 May, 2013.