Your cart is empty

गीता-बोध और मंगल-प्रभात - गांधी

₹30.00

'गीता-बोध और मंगल प्रभात’ में गीता के अठारहों अध्यायों पर गांधीजी के अर्थगर्भित विचार क्रमबद्ध हैं, तथा आश्रम में प्रातःकाल की प्रार्थना के बाद ‘सत्य’, ‘अहिंसा’, ‘ब्रह्मचर्य’, ‘अस्वाद’ आदि विभिन्न शाश्वत विषयों पर गांधीजी द्वारा व्यक्त मंगल-वाणी संकलित है।

Geeta-Bodh Aur Mangal-Prabhat - Mahatma Gandhi

Pages: 100
Size: Crown
ISBN: 9789383982431

Add to Cart:


This product was added to our catalog on Sunday 19 May, 2013.