Your cart is empty

ईशावास्य-वृत्ति - विनोबा

₹10.00

‘वेदों का सार और गीता का बीज’ है ईशावास्य-उपनिषद्। उस पर बापू के आदेश पर विनोबाजी द्वारा लिखि गयी टिप्पणी का सरल-सुबोध विस्तार। प्रातः प्रार्थना में गेय अठारह मंत्रों के इस छोटे-से उपनिषद् को हृदयंगम करने का सर्वोत्तम साधन।

Pages: 72
Size: Crown

Add to Cart:


This product was added to our catalog on Wednesday 22 May, 2013.